Floating Image

MyShishu

Typically replies within 5-20 minutes

🟢 Online | Privacy policy

Pregnancy Diet Chart In Hindi 

Pregnancy Diet Chart In Hindi

Introduction

Welcome to our blog post about the Pregnancy Diet Chart in Hindi! Pregnancy is a special time in a woman’s life, and it is crucial to prioritize your health and nutrition during this period. In this article, we will provide you with a comprehensive guide on what to eat and what to avoid during pregnancy, all in Hindi. So, sit back, relax, and let’s dive into the world of pregnancy nutrition!

The Importance of a Healthy Diet During Pregnancy

Eating a well-balanced diet during pregnancy is essential for the health of both the mother and the baby. A healthy diet can help to reduce the risk of complications such as gestational diabetes, preterm birth, and low birth weight. It can also provide the necessary nutrients for the baby’s growth and development.

During pregnancy, your body needs extra vitamins, minerals, and nutrients to support the growth of the baby. Eating a variety of foods from all food groups ensures that you are getting all the essential nutrients that you and your baby need. A balanced diet also helps to control weight gain, reduce the risk of pregnancy-related complications, and promote a healthy delivery.

गर्भावस्था के दौरान आहार का महत्व

गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ आहार का सेवन माता और शिशु के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। एक स्वस्थ आहार गर्भावस्था के दौरान प्रसव संबंधित कई समस्याओं जैसे कि भ्रांति डायबिटीज, प्रीटर्म जन्म और कम वजन जन्म का जोखिम कम करने में मदद कर सकता है। यह शिशु के विकास और विकास के लिए आवश्यक पोषक तत्व भी प्रदान कर सकता है।

गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर को बच्चे के विकास का समर्थन करने के लिए अतिरिक्त विटामिन्स, खनिज तत्व और पोषक तत्व की आवश्यकता होती है। सभी खाद्य समूहों से विभिन्न खाद्यों का सेवन करने से यह सुनिश्चित होता है कि आप और आपके बच्चे को आवश्यक पोषक तत्व मिल रहे हैं। एक संतुलित आहार वजन बढ़ने को नियंत्रित करने में मदद करता है, गर्भावस्था संबंधित समस्याओं का खतरा कम करता है, और एक स्वस्थ प्रसव को प्रोत्साहित करता है।

What to Eat

During pregnancy, it is important to eat a variety of foods to ensure that you are getting all the necessary nutrients for you and your baby. Include plenty of fruits, vegetables, whole grains, lean protein, and dairy in your diet. Here are some essential nutrients that you should include in your pregnancy diet:

1. Folic Acid: Folic acid is crucial for the development of the baby’s neural tube, which eventually becomes the brain and spinal cord. Foods rich in folic acid include leafy green vegetables, citrus fruits, beans, and fortified cereals.

2. Iron: Iron is essential for the production of red blood cells, which carry oxygen to the baby. Good sources of iron include lean meat, poultry, fish, beans, and fortified cereals.

3. Calcium: Calcium is vital for the development of the baby’s bones and teeth. Dairy products such as milk, cheese, and yogurt are excellent sources of calcium.

4. Protein: Protein is essential for the growth and development of the baby. Include lean meat, poultry, fish, eggs, beans, nuts, and seeds in your diet.

5. Omega-3 Fatty Acids: Omega-3 fatty acids are important for the baby’s brain and eye development. Include fatty fish such as salmon, mackerel, and sardines in your diet.

क्या खाना है

गर्भावस्था के दौरान, आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रकार के भोजन का सेवन करना महत्वपूर्ण है। अपने आहार में फल, सब्जियां, पूरे अनाज, दुबला प्रोटीन और डेयरी शामिल करें। यहाँ कुछ आवश्यक पोषक तत्व हैं जो आपको अपने गर्भावस्था आहार में शामिल करना चाहिए:

1. फोलिक एसिड: फोलिक एसिड बच्चे की सतही ट्यूब के विकास के लिए महत्वपूर्ण है, जो आखिरकार दिमाग और रीढ़ की हड्डी बन जाती है। फोलिक एसिड से भरपूर खास खाद्य शाकाहार, सीताफल, फली, और बुनियादी अनाज हैं।

2. लौह: लौह लाल रक्त को पैदा करने के लिए महत्वपूर्ण है, जो बच्चे को ऑक्सीजन पहुंचाते हैं। लौह के अच्छे स्रोत दुबला मांस, मुर्गी, मछली, फली, और बुनियादी अनाज हैं।

3. कैल्शियम: कैल्शियम बच्चे की हड्डियों और दांतों के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। दूध, पनीर, और दही जैसे डेयरी उत्पाद कैल्शियम के उत्कृष्ट स्रोत हैं।

4. प्रोटीन: प्रोटीन बच्चे की वृद्धि और विकास के लिए आवश्यक है। अपने आहार में दुबला मांस, मुर्गी, मछली, अंडे, फली, मेवे और बीज शामिल करें।

5. ओमेगा-3 फैटी एसिड: ओमेगा-3 फैट्टी एसिड बच्चे के दिमाग और आंख के विकास के लिए महत्वपूर्ण है। अपने आहार में सैल्मन, मैकरेल, और सार्डीन जैसी तले हुए मछलियां शामिल करें।

What to Avoid

While it is essential to focus on what to eat during pregnancy, it is equally important to know what to avoid. Certain foods and substances can be harmful to you and your baby during pregnancy. Here are some foods and drinks that you should avoid during pregnancy:

1. Alcohol: Alcohol consumption during pregnancy can lead to fetal alcohol syndrome, which can cause physical and mental birth defects. It is best to avoid alcohol altogether during pregnancy.

2. Caffeine: High levels of caffeine can increase the risk of miscarriage and low birth weight. Limit your intake of caffeine from coffee, tea, and soda.

3. Raw or Undercooked Meat: Raw or undercooked meat can contain harmful bacteria such as salmonella and listeria, which can cause food poisoning. Make sure all meat is cooked thoroughly before consuming.

4. Raw Eggs: Raw eggs can contain salmonella bacteria, which can be harmful during pregnancy. Avoid foods such as homemade mayonnaise, raw cookie dough, and unpasteurized eggnog.

5. High-Mercury Fish: High-mercury fish such as shark, swordfish, king mackerel, and tilefish should be avoided during pregnancy, as they can be harmful to the baby’s developing nervous system.

जिन चीज़ों से बचें

जबकि गर्भावस्था के दौरान क्या खाना है पर ध्यान केंद्रित करना महत्वपूर्ण है, उस समय क्या बचना चाहिए के बारे में जानना भी उसी कदर महत्वपूर्ण है। कुछ खाद्य और पदार्थ गर्भावस्था के दौरान आपके और आपके शिशु के लिए हानिकारक हो सकते हैं। यहाँ कुछ खाद्य और पेय जो आपको गर्भावस्था के दौरान बचने चाहिए:

1. शराब: गर्भावस्था के दौरान शराब का सेवन जननी अल्कोहल सिंड्रोम का कारण बन सकता है, जो शारीरिक और मानसिक जन्म दोष का कारण बन सकता है। गर्भावस्था के दौरान शराब बिल्कुल भी न करें इस से बेहतर है।

2. कैफीन: कॉफी, चाय, और सोडा से कैफीन की उच्च स्तर की सेवन स्त्रावन और कम वजन जन्म के खतरे को बढ़ा सकता है। कैफीन की सीमा निश्चित करें।

3. कच्चे या अधूरे पके मांस: कच्चे या अधूरे पके मांस में सैमनेला और लिस्टीरिया जैसे हानिकारक जीवाणु हो सकते हैं, जो खाने के बाद खेलावट का कारण बन सकते हैं। सुनिश्चित करें कि सभी मांस को पूरी तरह से पकाकर कर ख

Last Call!! Grab Your Free E-book to Transform Your Life

Discover The Joy Of
Parenting With Myshishu
Expert Courses

Parenthood Just Got A Whole Lot Easier!

Join Myshishu for courses that guide, educate, and Empower. Your Journey to Becoming a more confident parent starts here

Ready To Transform Your Parenting Experience?

Book a Free Consultation
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Grab Your Free E-book Now !!
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.